Home कहानीयां वफादार कुत्ते कि कहानी। Waffadar kutta Best Story In Hindi
Wafadar Kutta story tamplate (infographics)

वफादार कुत्ते कि कहानी। Waffadar kutta Best Story In Hindi

by Sneha Shukla

Waffadar kutta Best Story In Hindi- पुराने जमाने में फेरी लगाकर व्यापार करने वालो को बंजारा कहते थे। जो ज्यादातर एक जगह पर निवास न करके एक स्थान से दूसरे स्थान पर आते-जाते रहते थे। बंजारे के पास अपना एक कुत्ता था जो अपने मालिक के लिए बहुत वफादार था। लेकिन महज एक कर्ज के कारण दोनों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ा।

एक बार जरूर पढ़िए दिल को छू जाने वाली कहानी।

Waffadar kutta Best Story In Hindi
वफादार कुत्ते कि कहानी

एक बंजारा ( फेरी लगाकर व्यापार करने वाला) था। उसके पास एक पालतू कुत्ता था। वह कुत्ता मनुष्य के समान बुद्धिमान था। उस बंजारे ने एक धनी व्यक्ति से कुछ कर्ज ले रखा था। कर्ज चुकाने में असमर्थ बंजारे ने धनी व्यक्ति से कहां कि मैं अभी आपका धन लौटाने में असमर्थ हूं। मेरे पास एक वपादर कुत्ता है। यह चोरी नहीं होने देता। सारी रात्रि जागता है तथा दिन में सोता है। आप इसे गिरवी रख लो। आपका धन लौटाकर मैं इसे आप से वापिस ले लूंगा।

धनी व्यक्ति ने बंजारे का प्रस्ताव स्वीकार किया तथा कुत्ते को घर ले आया। कुछ दिनों के बाद धनी व्यक्ति के घर चोरी हो गई। लाखों रूपए का सामान चोरी हो गया। सुबह सर्व परिजन शोक कर रहे थे। कुत्ते पर सवाल उठाए जा रहे थे। उसी समय उस कुत्ते ने धनी व्यक्ति की धोती-वस्त्र को मुख में पकड़ा तथा उसको खींचने लगा।

कुत्ते की गतिवधि समझ कर बहुत सारे व्यक्ति उस कुत्ते के पीछे-पीछे दूर जंगल में गए। रात्रि में चोरों ने चोरी किया हुआ धन गड्डा खोदकर जमीन में दबा दिया था। क्योंकि सूर्य उदय होने वाला हो गया था। कुत्ता उनके पीछे-पिछे जाकर सब देख आया था।

वफादार कुत्ते कि कहानी Waffadar kutta Best Story In Hindi- वफादार कुत्ते कि कहानी, कुत्ता चोरों के पिछे जाते हुए।
कुत्ता उनके पीछे-पिछे जाकर सब देख आया था।

उसी स्थान पर जाकर कुत्ते ने अपने पैरों से खोदना शुरू किया। धनी व्यक्ति के नौकरों ने उस स्थान को खोदा तो सर्व धन मिल गया।

पागल की सलाह

धनी व्यक्ति ने एक पत्र लिखा तथा कुत्ते की वफादारी बताई। उसमें धनी व्यक्ति ने लिख दिया कि आपका कर्ज माफ़ कर दिया है तथा आपका कुत्ता भी लौटा रहा हूं। यह पत्र कुत्ते के गले में बांध कर बंजारे के पास लौट जाने का संकेत किया।

कुत्ता दौड़ता हुआ बंजारे के पास गया। बंजारे ने सोचा कि कुत्ता भाग कर आ गया है। इस कुत्ते ने मेरी नाक कटवा दी है तथा मेरे मान को हानि पहुंचाई है, अब मैं क्या मुंह लेकर धनी के पास जाऊंगा। यह सोचकर दूर से ही कुत्ते को गोली मार दी, कुत्ते की मृत्यु हो गई। लेकिन जब निकट जाकर उसके गले में बंधा पत्र पढ़ा तो बंजारा फूट-फूट कर रोने लगा।

शिक्षा:- बिना आंखो देखे किया गया शीघ्रता का फैसला सदा हानिकारक ही होता है।

बंजारा और वफादार कुत्ता कहानी आपको कैसी लगीं? कृपया कमेंट के माध्यम से बताएं।

इन stories को भी ज़रूर पढ़ें

चतुर चमार की कहानी

पिता की चार सीख

लकड़हारे से राजा भोज बनने की कहानी

Related Posts

पंचतन्त्र की कहानियां

संत की परीक्षा

चार ब्रह्मणो की कहानी

Related Posts

1 comment

Mohammad Tarvej Mansuri July 23, 2021 - 3:38 PM

Very nice story emotional and motivational.

Reply

Leave a Comment