बड़े सपने देखिए और आंखें खुली रखिए। Self Confidence Improvement

बड़े सपने देखिए और आंखें खुली रखिए। Self Confidence Improvement

दोस्तो यह एक मोटिवेशनल आर्टिकल है। जो की रॉनी स्क्रूवाला जो एक फिल्म प्रोड्यूसर और उद्यमी है की आत्मकथा “सपने देखो खुली आंखों से” से साभार है। इसमें इन्होंने बताया है की जब इनकी पहली फिल्म ही सबसे बड़ी फ्लॉप साबित हुई तो इन्होंने अपनी इस नाकामी को कैसे सफलता में बदला। हम आशा करते है इसे पढ़ने के बाद आपमें एक अनंत ऊर्जा का समावेश जरूर होगा ।

Self Confidence Improvement

नाकामी मेरे अंदर दिलचस्पी और कौतूहल जगाती है। मैं यह कभी नहीं समझ पाया कि लोग नाकाम होने से इतना डरते क्यों हैं। हर कोई नाकाम होता है। मुझे मालूम है, मैं हुआ हूं। अक्सर लोग मुझसे कारोबार और उद्यम के मे विभिन्न अनुभवों के बारे में पूछते हैं। ज्यादातर लोग कामयाबियों के बारे में सुनना चाहते हैं। नाकामियों के बारे में क्यों नहीं पछते भला?

मेरे पास जताने के लिए ज्यादा बाते होंगी। एक शुरू-शुरू की मिसाल लीजिए- मेरी पहली बॉलीवुड फिल्म दिल के झरोखे में ऐसी प्लॉप साबित हुई थी कि शायद आपने उसे कभी देखा ही नहीं होगा। लेकिन उस फिल्म के निर्माता के रूप में मैने जो सबक सीखे, उन्होंने मुझे धकेल कर व्यापार के उस क्षेत्र में आगे बढने की प्रेरणा दी। उन्होंने मुझे ऐसी चीज सिखाई जो मेरे लिए सिर्फ फिल्मों के क्षेत्र में ही फलने-फूलने के लिए नहीं, बल्कि कला और कलाकारों का प्रबंधन करने और अपने यकीन और साहस पर विश्वास करने के लिए भी जरूरी थीं।

फिल्म के निर्माण में 10 करोड़ रुपए लगे थे (आज के हिसाब से 45 करोड़)। हमने सारे गंवा दिए। ऐसी या किसी भी नाकामी से किसी को क्या हासिल होता है? जिंदगी की तरह कारोबार में भी नाकामी सफलता से ज्यादा प्रेरक साबित हो सकती है। लोगों के दिमाग से उस विफलता को जल्दी से साफ करके आगे बढ़ने पर ध्यान केन्द्रित कीजिए और आप उस तजुर्बे को ‘आखिरी सफर’ के तौर पर देखना बंद कर देंगे।

हमने नाकामी का सामना इस यकीन के साथ किया कि चाहे जो भी हो, हम कामयाब जरूर होंगे। व्यापार या जिंदगी में कोई गारंटी नहीं होती। लेकिन अगर हर किसी को देने के लिए मेरे पास एक सलाह होती तो मैं यही कहता- बड़े सपने देखिए और ऐसा करते समय अपनी आंखें खुली रखिए।

सकारात्मक बने रहने के लिए यो 15 वाक्य दोहराएं [ Positive Thoughts In Hindi ]

सकारात्मकता शरीर के लिए उन घुलनशील पोषक तत्वों की तरह है, जिनकी हमें रोजाना जरूरत होती है। इसके लिए जरूरत है कि रोज खुद को सकारात्मकता का डोज दें। ये 15 अभिकथन आपको सकारात्मक बने रहने में मदद करेंगे। दिन में जब भी वक्त मिले, इन्हे मन में दोहराएं।

1. मुझे खुद पर यकीन है और अपने किए काम पर कोई संदेह नहीं करूंगा।

2. मैं जिंदगी से खुश हूं और इसके प्रति आभार (ग्रैटिट्यूड) मानता हूं।

3. मैं कुछ भी कर सकता हुं, भले ही इसमें उम्मीद से ज्यादा वक्त लगे।

4. मैं जैसा महसूस कर रहा हूं, उसे वैसा ही सहर्स स्वीकार करूंगा।

5. खुद को और जिन्होंने मेरे साथ गलत किया, उन्हें भी माफ करूंगा।

6. बेहतर भविष्य के लिए रोज एक एक कदम आगे बढ़ाऊंगा।

7. मेरे पास बहुत अच्छे आइडियाज् हैं, मैं उन्हें पूरा होते हुए देख रहा हूं।

8. मैं किसी से अपनी तुलना नहीं करूंगा, क्योंकि हर व्यक्ति अलग है।

9. मैं भरोसा रखूंगा कि हर चीज बेहतरी की दिशा में बढ़ रही है।

10. मैं हमेशा खुशी को चुनुंगा।

11. मैं दूसरों के कहे का खुद पर नकारात्मक असर नहीं होने दूंगा।

12. मैं खुशी नहीं देने वाली चीजो घटनाओं-शब्दों पर ध्यान नहीं दूंगा।

13. मैं अपनी ऊर्जा सिर्फ महत्वपूर्ण चीजों पर लगाऊंगा।

14. मैं सफलता के लिए हमेशा सकारात्मक सोचूंगा।

15. मैं मजबूत हूं और कोई चीज मुझे आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती।

Related Post

खुद पर काबू रखना अच्छे इंसानों की पहचान है

टाइम मैनेजमेंट के 10 अहम सिद्धांत

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *