Father and Son Hindi story.

पिता की चार सीख। हिन्दी कहानी। Pita Ki Char Seekh Best Hindi Story

Pita Ki Char Seekh Best Hindi Story- इस कहानी में आप पढ़ेंगे की जब एक पिता अपने बेटे को अपना जीवन संभालने के लिए चार बातें सिखाता है, तो बेटा उन चार बातों का अर्थ क्या निकलता है? क्योंकि बाते सुनने में आसान थी, किंतु उनके अर्थ निकालना हर किसी के बस की बात नहीं और जब बेटे को कहानी के अंत में चारों बातों के सही अर्थ पता लगते हैं, तो उसे अहसास होता है की जिन बातों को वह अपने जीवन में आजमा रहा था। उनके अर्थ कितने गहरे हैं।

Pita Ki Char Seekh Best Hindi Story
पिता की चार सीख

एक बार की बात है एक गांव में एक साहूकार रहता था। वह अपने व्यापार के क्षेत्र में काफी उन्नति कर चुका था। जिसके बदौलत उसके पास धन-संपत्ति किसी भी चीज की कोई कमी नहीं थी।

लेकिन एक बात उसे खाए जा रही थी की “मेरे मरने के बाद मेरा बेटा अपना जीवन कैसे संभालेगा”? क्योंकि उसका बेटा दिमाग से बिल्कुल नासमझ था। उसे बाहरी दुनिया की बिल्कुल भी समझ नहीं थी।

कुछ दिन बाद साहूकार का स्वस्थ खराब रहने लगा। अब उसे महसूस हो गया था की उसकी मृत्यु किसी भी क्षण हो सकती हैं। तब उसने अपने नासमझ बेटे को बुलाया और उसे अपना जीवन संभालने के लिए चार बाते सीखाई।

पहली सीख – बेटा जब भी “काम पर जाए तो छावं में जाना और छावं में ही घर वापस आना”।

दुसरी सीख – “घर के चारों तरफ चमड़ी की बाड़ (चमड़ी की बाउंड्री) करवाना”।

तीसरी सीख – “हमेशा मीठा भोजन करना”।

चौथी सीख – “पत्नी को हमेशा बांध कर पिटना”।

बेटे को चार बातें सीखाते ही साहूकार जी स्वर्ग सिधार गए। अब बेटे ने अपने पिता की चार बातें अपने जहन में बैठाई और एक नई जिंदगी की शुरुआत करने लगा। जब उसका काम धंधे पर जाने का समय आया तो उसे अपने पिता की बात याद आई की पिता ने कहा था। कभी भी काम पर जाए तो तो “छांव (छाया) में जाना और छांव में ही वापस आना”। चूंकि पैसों की कमी थी नहीं इसलिए उसने यह बात याद करके अपने घर से ऑफिस तक एक बहूत बड़ा टेंट लगवा दिया ताकि धूप से बच सके।

पिता की ही बात याद करके अपने “घर के चारों तरफ भैंस की चमड़ी की बाउंड्री बनवा दी”। जिसकी बदबू से आस-पड़ोसी दुखी होने लगे लेकिन पिता की बात तो माननी होगी। प्रतिदिन अपनी घरवाली से भोजन में केवल मीठी चीज बनवाता जैसे हलवा-खीर आदि।

एक दिन उसकी पत्नी ने अनजाने में कोई गलती कर दी, तो पत्नी पर उसका गुस्सा इतना भड़का की वह उसे मारने पर उतारू हो गया। लेकिन उसे फिर अपने पिता की बात याद आई कि “पत्नी को हमेशा बांध कर पीटना” यह बात याद करके उसने अपनी पत्नी को रस्सी से बांध दिया और जैसे ही उसे पीटने के लिए लाठी उठाई।

पत्नी ने गुस्से में कहां “रुक जा नासमझ अब मैं बताती हूं तुम्हारे पिता की चार बातों के सही अर्थ क्या है”? तब उसकी पत्नी उसके पिता की चारो बातों के सही अर्थ समझाना शुरू करती है।

Pita Ki Char Seekh Best Hindi Story.
पिता की चार सीख
Wife and husband in conversation.

पहली बात – “काम पर छावं में जाना और छांव में ही आना” इसका अर्थ है प्रतिदिन काम पर सूर्योदय होने से पहले जाना और सूर्यास्त होने के बाद घर वापस आना ताकि अपने काम में इतने व्यस्त हो जाओ की बाहरी दुनिया के मोह माया से दूर रह सको। लेकिन तुमने तो घर से ऑफिस तक टैंट लगवा दिया ताकि तुम धूप से बच सको। क्या ये उद्देश्य था तुम्हारे पिता जी का?

दूसरी बात- “घर के चारों तरफ चमड़ी की बाड़ (चमड़ी की बाउंड्री) करवाना” इसका मतलब है अपने घर की सुरक्षा के लिए कुत्ता या बिल्ली पालना ताकि चोरों से सुरक्षित रहा जा सके। लेकिन तुमने तो घर के चारों तरफ भैंस की चमड़ी लगवा दी जो कि अर्थहीन है।

तीसरी बात- “हमेशा मीठा भोजन करना” इसका अर्थ है हमेशा भूख तेज लगने पर ही भोजन करना इससे एक सूखी रोटी भी मीठे भोजन समान संतुष्टि देगी। जब किसी को बहुत तेज भूख लगती है तो वह यह कहकर भोजन का अपमान नहीं करता की ये तुमने क्या बना दिया। भला ये भी कोई खाता है। यह तुच्छ लोगों के काम होते है, और तुम प्रतिदिन मुझसे मीठा भोजन बनवाते हो जो मनुष्य को गंभीर बीमारी की ओर ले जाता है।

चौथी बात- “पत्नी को हमेशा बांध कर पीटना” इसका अर्थ जानते हो इसका मतलब है की पत्नी को केवल तब पीटना जब उसके कोई औलाद हो जाए क्योंकि औलाद होने से एक स्त्री रिश्तों में बंध जाती है। जब तक किसी स्त्री के औलाद नहीं है तब तक वह स्वतंत्र है। अगर उसकी आजादी छीनने की कोशिश करोगें तो वह अपने स्वतंत्र मन से कही भी उड़ सकती है।

हाथी के दांत दिखाने के ओर तथा खाने के ओर, अर्थात् पिता ने सिखाया कुछ ओर बेटा सीखा कुछ ओर। उसकी पत्नी इतने दिनों से मौन इसलिए थी क्योंकि वह अपने पति के नासमझ दिमाग को भली भांति जानती थी। इसलिए उसने अपने पति को उसके हाल पर छोड़ दिया । करने दो जो करता है। लेकिन नौबत जब सच में उसके ऊपर आ गई तो वह भड़क उठी और उसे अपनी चुप्पी तोड़नी पड़ी।

अगर आप भी बेहद ही कम बजट में जिंदगी बनाने वाले कोर्स करना चाहते है जैसे – ब्लॉगिंग, SEO, YouTube, Affiliate marketing, wordpress, email marketing, social media marketing और PPC Ads ये सभी कोर्स आपको मात्र रू 599 में सिखाए जाएंगे। मैंने भी दो महीने पहले यही से ब्लॉगिंग का कोर्स किया था जोकि गूगल एडसेंस द्वारा अप्रूव हो चुका है। क्लिक करे:- Learn Bazar Academy

पिता की चार सीख हिन्दी कहानी आपको कैसी लगी कृपा कॉमेंट के माध्यम से जरूर बताए ।

इन stories को भी ज़रूर पढ़ें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *